वी के यादव बने नए सीआरबी,उम्मीद कीजिये बहुत अच्छे की,लोहानी छाए रहे रेलकर्मियों के दिलों में

    रेलवे बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष अश्विनी लोहानी

नईदिल्ली।कर्मचारियों के बीच संभवतः सबसे लोकप्रिय रेलवे बोर्ड अध्यक्ष अश्विनी लोहानी ने रेलवे से विदाई ले ली।उम्मीद की जा रही थी कि उनको सेवा विस्तार दिया जा सकता है,लेकिन ऐसा हुआ नहीं।सूत्रों का रेलवार्ता से दावा है कि लोहानी की बढ़ती लोकप्रियता से मंत्री नाराज थे,इसीलिए उनकी विदाई हो गई।फिलहाल नए अध्यक्ष वी के यादव बनाये गए है।मोदी सरकार ने चुनावों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की ओर विशेष ध्यान देते हुए यादव की नियुक्ति की है।
वी के यादव रेलवे बोर्ड के नए अध्यक्ष बनाये गए हैं।गोरखपुर निवासी यादव एक बेहतरीन अधिकारी माने जाते हैं।सूत्रों का दावा है कि वह रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा की पहली पसंद थे।रेलमंत्री पीयूष गोयल भी अध्यक्ष पद पर बदलाव चाहते थे।
जहाँ तक श्री यादव का सवाल है वह 1980 बैच के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर्स के अधिकारी हैं।वर्तमान में वह सभी महाप्रबंधको में वरिष्ठ थे,इसीलिए उनका चयन किया गया है। वैसे रेलवे बोर्ड के कई सदस्य इस पद के बड़े दावेदार थे।उनमें प्रमुख रूप से मेम्बर इंजीनियरिंग विश्वेश चौबे के अलावा मैम्बर रोलिंग स्टॉक राजेश अग्रवाल शामिल हैं।
दूसरी ओर लोहानी के कार्यकाल का जहां तक सवाल है,वह ऐसे अध्यक्ष के रूप में जाने जाएंगे जिसने सबसे छोटे कर्मचारियों के लिए अपना दरवाजा हमेशा खुला रखा।सबसे छोटे कर्मचारियों की आवाज उन्होंने बनने की कोशिश की।यूनियनों की सुनी लेकिन उन्हें अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया।कर्मचारी उनकी पहली प्राथमिकता रहे।कार्यकाल के आखरी दिन शाम चार बजे तक उनको सेवा विस्तार मिलने की चर्चा रही।लेकिन जब कोई आदेश नहीं आया तो उन्होंने रेलवे से विदाई ले ली।
सूत्रों का दावा है कि प्रधानमंत्री कार्यालय यानि पीएमओ उनको सेवा विस्तार देने के पूरे मूड में था लेकिन बाद में वी के यादव के नाम पर सहमति दी गई।दरअसल प्रधानमंत्री मोदी भी ऐसा अधिकारी चाहते थे जो निजीकरण के मामले में खुला रुख रखता हो,साथ ही उत्तर प्रदेश से भी हो।ऐसे में पीएमओ श्री यादव के नाम पर सहमत हो गया।
नए अध्यक्ष को खासकर प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, जनरल मैनेजमेंट, इंडस्ट्रियल पॉलिसी फार्म्युलेशन, विदेशी सहयोग और एफडीआई का जबरदस्त अनुभव है।जापान से जुड़ी रेल परियोजनाओं में उन्हें फंडिंग को बहुत नजदीक से देखा है।ऐसे में निजीकरण के बढ़ने के ही आसार हैं।रेलवार्ता की ओर से नए अध्यक्ष को बहुत बहुत बधाई।

 

0Shares

Check Also

ट्रैकमैनों से डरी लाल झंडे की यूनियन,ईसीसी सोसायटी चुनाव में फर्जीवाड़ा, पहले पैनल वैलिड किया फिर किया रद्द

चुनाव अधिकारी व सीपीओ ने किया लाल झंडे की यूनियन के दवाब में गलत फैसला,13 …

6 comments

  1. Ranjit Kumar Mishra

    भारतीय रेल के सभी मंडलों में महिला कल्याण संगठन के आड में रेल अधिकारीयों द्वारा रेल की जमीनों पर बनी दुकानों तथा सम्पत्तियों से किराए की अबैध वसूली जारी रहने से रेलबे को करोड़ों की चपत लगाई जा रही है। पूर्व मध्य रेलबे दानापुर में महिला कल्याण संगठन के आड में रेल अधिकारीयों द्वारा चल रही अवैध वसूली को उजागर करने के कारण मेरे द्वारा संचालित सुधा मिल्क पार्लर को रेल प्रशासन द्वारा बताकर तोड़ दिया गया है जिसका निर्माण पटना डेयरी प्रोजेक्ट द्वारा रेलबे से लिखित आदेश 25.01.13 को मिलने पर किया गया था और 10 जुलाई 13 को तत्कालीन मंडल रेल प्रबंधक द्वारा उद्घाटन किया गया था।
    इस को दैनिक भास्कर ने 3 जनवरी 16 को प्रकाशित किया था तो माननीय रेल राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हा जी का वयान आया था कि पुरे मामले की जांच अध्यक्ष रेलबे बोर्ड द्वारा होगी तीन साल होने वाले हैं जांच कब तक होगी या ऐसे ही चलता रहेगा। भारतीय रेल को कम से कम 100 करोड़ का सालाना घोटाला चल रहा है।

  2. नवीन कुमार

    ये अच्छा तो नहीं हुआ पर परिवर्तन संसार का नियम है लोहानी सर रेलवे कर्मचारी के लिए एक वरदान थे;रेलवे कर्मचारी के उनके कार्यकाल स्वर्ण काल था

  3. Sir trackman rail ki hadi hai … Trackman hai to rail hay … Sir congratulations par trackman ke liye kuch karo… Yane trackman acha Kam kar sake thanks ..

  4. Yamuna Kumar Yadav

    Jo niche post par karyrat karmchairyo ke utthan ke bare ,gahan se results de ,acche or sache kam kare God unhe pairo me jagha De ,or sabke juva me chha jaye,high posted officer sab kahte h ye jivan dubara sayad unhe milte h.

  5. Rly is a life line of the nation to cast its positive impacts in various fields of nation. It gives livelihood to it’s many employees as well many other people from a howker çoolie labour etc to even small traders & industrialists to strengthen the nation stronger. So it is considered an ocean to meet up the requirements of many people as they like right or wrong way in it’s exploiting. So it remained so for long to serve its so purpose in our society.
    In changing world fast IR got questioned for it’s slow development in it’s technology despite a technical based industry in fast developing technical world.
    IR’s coterie didn’t like to bring about any change in it. So it suffered much in it’s development. It’s employees focus on money making fat salary facilities union politics etc. So it has many unions departmental wise unions caste based unions & welfare organizations to idle time&feel fillip about elevated being involved in dirty caste based & departmental as well factional rivatry breeding politics. None cared for radical change in it’s structure function etc to cope with changing world. A Cong union leader observed that unionism helped him to make over 150 bighas of land. Another left union leader said that why he will like any change in rly to be ignored himself? We want aggravation of problems ever from labour & public so that management/ administration will value them. Even in having a privilege pass staff goes to union leaders to get issued soon as well having max break journeys to avail reservation facilities etc. A staff didn’t take pass ever during his entire rly service pd. Since on joining rly a staff asked for pass to attend his pregnant wife. Much delayed in trying to get pass. He went lately having ticket booked. Unfortunately his wife didn’t survive & expired. In reaction that in trying to have pass issued it reached late without pass& couldn’t meet her wife in alive. So he didn’t take his due privilege pass in life during service pd or after retirement. Long painful history of rly’s working will not end soon.
    A left union leader said against highly educated class D&C staff that who said to join rly with so high education to ask favor in having promotions etc. So disgraceful. No computer will be allowed to be used over rly. So various nice things worth helping rly’s development were outraged from unions.
    Even after 70 of freedom rly staff won’t like to tell the stupid & absurd systems of pass systems issued to them. About two years back I went to PRS/Delhi Cantt to have reservations on medical pass for Barauni Jn. Reservation denied on plea that trains going via Barauni Jn or Barauni Jn have no vacant berths in AC coach to give. I asked to give upto SPJ in trains going Darbhanga to change there for other local trains for Barauni Jn. They didn’t despite my efforts to convince about pass rule as well simple solution to avail reservation. I asked reservation clerk to be sure about the rules from your higher bosses/supervisors to give reservation as asked. They too denied. Think about the wrong pass rules as well knowledge about it to its handlers?
    Colony is not maintained. Not a single personnel either from zonal vigilance or Board or CVC checked ever taking as a sample from anywhere over IR to know the worst system of maintenance quality?
    In poor nation like ours land management over rly land is most poor& neglected. Nowhere land is allotted to the desirous persons to run shop restaurant shop/market complex over vast surplus lands in colonies station premises as well vast stretches of lands along both sides of the tracks. Funny. Revenue & employment opportunities are being ignored since long.
    PM took better initiation to tone up lethargic rly working for the better one with the pace of technical development. But not up to the required scale. Since he is not spared to give sufficient time for development mission being attacked from opposition perpetually. So in such situations if Yadav is considered for CRB for political angle is not bad. Since he will do work only if he survives. So he has to manage to stay first to develop rly & the nation.

  6. Rajesh Kumar Yadav

    Sir congratulations to you Mije badi Kushi hui.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *