पोल-खोल

जूही के विद्युत कार्यालय में महिला का शोषण,मामला उजागर होने से और बढ़ गया जुल्म

जूही। एक लड़की शोषण का शिकार होती रही और चारों तरफ हाथ फैला कर मदद मांगती रही लेकिन किसी ने भी उसका साथ देने की जरूरत नहीं समझी। सभी कहते रहेगी कंप्रोमाइज कर लो,आपस में मामला निपटा लो, लेकिन किसी ने भी यह जानने की जरूरत नहीं समझी कि आखिर इसकी असली वजह क्या है ।सबने यही माना कि वह …

Read More »

सूदखोरों के मकड़जाल में फंसकर सब कुछ गंवा रहे कर्मचारी!

रेलकर्मचारियों के बीच सूदखोरों का आतंक दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है।इनके कर्ज़ तले कई बीच मे नोकरी छोड़कर स्वेच्छिक सेवानिवृत्ति ले रहे हैं।खासतौर पर छोटे कर्मचारी इनके आसान शिकार हैं। बीते वर्ष में स्वेच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले अधिकांश कर्मचारी इन सूदखोरों से पीड़ित थे। सूदखोरों का आतंक रेलवे में दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। हालांकि रेलवे ने इनसे …

Read More »

आखिर कब तक बहेगी भ्रस्टाचार की गंगा,सर्वेक्षण में फिस्सडी आये झांसी स्टेशन की सफाई व्यवस्था पुनः पुरानी कम्पनी को!

मण्डल के अधिकारियों का खुला संरक्षण है प्राइम क्लीनिंग सर्विस के ऊपर,सर्वेक्षण में फिस्सडी रहे ग्वालियर स्टेशन की सफाई व्यवस्था भी है इसी के हवाले झांसी।सफाई के मामले में रेलवे बोर्ड द्वारा कराए सर्वेक्षण में नीचे से फिसड्डी साबित हो रहे झांसी स्टेशन की सफाई का ठेका उसी कम्पनी को एक बार फिर से दे दिया गया है जो लगभग …

Read More »

शक के घेरे में स्टेशन डायरेक्टर कंचन,ट्रांसफर रुकवाने के लिए प्रकाशित करवाये अपने खिलाफ समाचार!

यदि इलाहाबाद के लिए अनफिट हैं कंचन तब फिर झांसी के लिए कैसे हैं फिट इलाहाबाद/झांसी।अपना ट्रांसफर रुकवाने के लिए कर्मचारी क्या क्या नहीं करता,यह तो पहले से सर्वविदित है लेकिन अब अधिकारी भी इसी राह पर चलने लगे हैं। झांसी के स्टेशन निदेशक के पद से स्थानांतरित गिरीश कंचन के ऊपर अपने ही खिलाफ समाचार प्रकाशित कराने के आरोप …

Read More »

कमसम से खाना खरीदते हैं तो हो जाएं सावधान, घटिया सामान से बनते है यहां पर खाद्य पदार्थ!

झांसी।सावधान यात्रियो….!यदि आप बड़े ब्रांड की वजह से कमसम फूड्स प्लाजा से खाना आदि लेकर खाते हैं तो एक बार फिर अपने निर्णय पर पुर्नविचार कर लीजिए। जांच में इसके यहां इस्तेमाल होने वाले खाद्य पदार्थ अमानक पाए गये हैं। यह फूड्स चैन वृंदावन फूड्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा संचालित है जो शताब्दी में भी केटरिंग देखती है,जिसके खाने की क्वालिटी …

Read More »

सरकार का साफ इंकार,न एनपीएस रद्द होगी और न ही बढेगा फिटमेंट फैक्टर, कौन से बिलों में छिपे हुए है हड़ताल करने वाले!

नईदिल्ली।सरकार ने साफ कर दिया है कि वह न तो फिटमेंट फेक्टर बढ़ाने जा रही है और न ही नई पेंशन योजना को बंद करने जा रही है। रेलवार्ता को बीते दिनों प्राप्त पत्रों से यह साफ हो गया है कि इन दोनों ही मुद्दों पर सरकार का रुख क्या है।वहीं दूसरी ओर चार महीने के अंदर इन दोनों ही …

Read More »

मारपीट के आरोपी को बचाने के लिए शिवगोपाल मिश्रा ने लगाया एडिचोटी का जोर,कर्मचारी बोले और कितना नीचे गिरोगे

नईदिल्ली।डॉक्टर के साथ सरेआम मारपीट करने वाले नेता को बचाने के लिए एआईआरएफ और नॉर्दन रेलवे के महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा को जमकर पापड़ बेलने पड़ रहे हैं।अभी तक किसी भी अधिकारी ने कोई भी आश्वासन नहीं दिया है।अपनी साख बचाने के लिए अब वह एनआर के जीएम को घेरने की कोशिश कर रहे हैं।इसी से साबित हो रहा है कि …

Read More »

राष्ट्रीय शोक के दौरान आरवीएनएल ने दी बेतवा क्लब में पार्टी,कहां बेच आये शर्म..!

झांसी।बेशर्मी की सारी हदों को पार करते हुए रेल विकास निगम (आरवीएनएल) के कर्ताधर्ताओं ने राष्ट्रीय शोक को एक तरफ रखते हुए पारीछा लाइन की दोहरीकरण की एनआई खत्म होने पर जमकर पार्टी की। इसमें कथित रूप से कई मण्डल के कई बड़े अफसर भी शामिल हुए।यह बात अलग है कि इस एनआई में लगातार दो दिन मालगाड़ी ट्रैक से …

Read More »

यूनियनों की कमाई का बड़ा अड्डा बना रेलवे हॉस्पिटल,चहेतों को कमाई की जगह पोस्टिंग कराने के लिए जोड़तोड़

एक बड़े नेताजी ने लाखों का सौदा कर सम्बंधित कर्मचारी को अनफिट कराने के लिए मेडिकल बोर्ड पर दवाब बनाया।बिना दवाब में आये बोर्ड ने उक्त कर्मचारी को अनफिट करने से साफ मना कर दिया।इसके बाद मण्डल के बड़े अधिकारी के जरिये डॉक्टर के ऊपर दवाब बनवाया गया। यहां से बात नहीं बनी तो जोनल मुख्यालय के अधिकारियों पर दवाब …

Read More »

नेताजी सोते रहे और रेलवे ने बन्द कर दिए कैश ऑफिस,अब स्टेशनों से निजी एजेंसी के कर्मचारी करेंगे कैश कलेक्ट

नईदिल्ली। नेता सोते रहे और रेलवे ने एक और विभाग को बंद कर दिया।कैश कार्यालय अब बीते दिनों की बात होने जा रही है।स्टेशन से कैश लेने की जिम्मेदारी भारतीय स्टेट बैंक यानि एसबीआई को दे दी गई है।एसबीआई ने यह काम एक प्राइवेट एजेंसी को सौंप दिया। जिसके कर्मचारियों ने स्टेशनों से कैश को कलेक्ट करना शुरू भी कर …

Read More »