यूनियन के नेता का टीटीई से विवाद का मामला तूल पकड़ा,चैकिंग कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

झांसी।एनसीआरइस के मण्डल अध्यक्ष रामकुमार सिंह की गतिमान एक्सप्रेस के टीटीई के साथ हुई कथित नोकझोंक का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा। कभी एनसीआरईएस में रहे चैकिंग स्टाफ के नेता अब इस मुद्दे को तूल देते नजर आ रहे हैं।यह बात अलग है कि पर्दे के पीछे विरोधी यूनियन के नेताओं की सक्रियता सबसे ज्यादा है।आज ऐसे ही कई चेहरे मुर्दाबाद करते नजर आए जो कुछ समय तक इन्ही नेता के आगे पीछे घूमकर अपनी राजनीति चमकाते घूमते थे।
गौरतलब है की बीते दिनों ग्वालियर से गतिमान एक्सप्रेस में झांसी आते समय एनसीआरईएस के मण्डल अध्यक्ष रामकुमार सिंह का कोच के टीटीई से आई कार्ड दिखाने पर विवाद हो गया था। टीटीई के मांगने पर रामकुमार सिंह ने यूनियन का कार्ड दिखा दिया।चूंकि कार्ड पर फ़ोटो नहीं थी ऐसे में टीटीई ने उनसे कोई भी ऐसा पहचान पत्र मांगा जिसमें उनकी फोटो लगी हुई हो।इस पर वाद विवाद हो गया।कथित रूप से टीटीई ने फ़र्ज़ी यात्री समझकर कंट्रोल को मैसेज कर दिया।इस पर रामकुमार ने भी अपने यूनियन के साथियों को स्टेशन पर बुला लिया।
झांसी आते ही दर्जनों की संख्या में एनसीआरईएस के समर्थकों ने टीटीई के खिलाफ जोरदार नारेबाजी कर दी।इनका कहना था कि यह एक मान्यता प्राप्त यूनियन के नेता की बेइज्जती है।कभी किसी टीटीई ने जीआरपी/आरपीएफ या फिर लोकल पुलिस वाले से पहचान पत्र मांगने की हिम्मत दिखाई। जैसे तैसे सुरक्षा बलों के जवान ने गुस्साए समर्थकों को समझा बुझा कर मामले को शांत करवाया। इसके बाद कुछ ऐसे नेताओं ने इस मामले को तूल देने की योजना बनाई जो कुछ समय पूर्व तक एनसीआरईएस का झण्डा थामे हुए थे लेकिन किसी न किसी वजह से फिलहाल दूसरी यूनियन का झण्डा उठाये घूम रहे हैं। आज ऐसे ही लोगों ने रामकुमार सिंह के मुर्दाबाद से लेकर एनसीआरईएस के मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए स्टेशन पर प्रदर्शन किया।सूत्रों का रेलवार्ता से दावा है कि इस प्रदर्शन को पर्दे के पीछे विपक्षी यूनियनों का साथ रहा।

 

5Shares

Check Also

सबसे व्यस्त 75 रेलवे स्टेशनों पर लहराएगा 100 फुट ऊंचा तिरंगा,रेलवे बोर्ड ने जारी किये आदेश

नई दिल्ली। देश प्रेम जगाने के उद्धेश्य से रेलवे ने ए-1 श्रेणी के सभी स्टेशनों …

2 comments

  1. Durgadas Malajpure

    पश्चिम मध्य रेल में भी ऐसी ही सम्भावना लगती है,क्योंकि आर के जैन कभी WCRKU के संस्थापक ओर प्रतिनिधित्व रहे जो आज WCREU में विलुप्त हो गए इसी तरह प्रेम नारायण सोनी जिन्हें पी एन सोनी कहते है वे भी पलायन उस संघटन में हो गए जिस संघटन से में आज से 18 साल से ज़्यादा समय पूर्व पश्चिम मध्य रेल में गुना में रेल संस्थान के चुनाव लड़ चुका हूं ,अभी तक मे टियर के समय से संघ से जुड़ा हूँ और मोहम्मद अनवर सदैव मेरे सेवा निवर्त के बाद भी है । जो WCRKU के महतत्वपूर्ण ओर कुशल समाज सेवक है । और आज भी सँघर्ष मई है ।

  2. रिटायर्ड कर्मचारियों को यूनियन से हटाओ। उन्हे जब पेंशन मिल रही है तो घर में बैठे। उन्ही लोगो के कारण आज कार्यरत कर्मचारियों की ऐसी तैसी हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *