रेलवे की अफसरशाही में बड़ा फेरबदल,कई जीएम की तैनाती,राजीव चौधरी एनसीआर के जीएम बने

नईदिल्ली,इलाहाबाद।रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज बड़े स्तर पर अफसरों को यहां वहां कर दिया। कई जोन के महाप्रबंधक बदले तो कई में नई तैनाती की गई।मकसद रेल का बेहतर संचालन के साथ साथ अफसरशाही की बेहतर तैनाती तो था ही साथ ही रेलवे के संचालन को और बेहतर बनाना भी रहा। उत्तर मध्य रेलवे को नया महाप्रबंधक राजीव चौधरी के रूप में मिला है।
रेल मंत्रालय की अफसरशाही में बड़े पैमाने पर उलटफेर हुआ है। उच्च स्तर पर कई महाप्रबंधकों को उनके पद से हटाकर उनकी जगह नए अफसर बिठाए गए हैं। जबकि मध्यम स्तर पर कुछ अफसरों को निदेशक बनाकर रेल मंत्रालय लाया गया है अथवा दूसरे जोन या उत्पादन इकाइयों में तबादला किया गया है।
सबसे बड़ा उलटफेर कोलकाता मेट्रो रेल में हुआ है, जहां महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय, आइआरएसएसई को हटाकर उनकी जगह पीसी शर्मा, आइआरएसएस को जीएम बनाया गया है। अजय विजयवर्गीय से पश्चिम-मध्य रेलवे के जीएम का कार्यभार संभालने को कहा गया है।
इसी प्रकार मगरूब हुसैन, आइआरएसईई को रेलवे विकास एवं मानक संगठन (आरडीएसओ), लखनऊ के महानिदेशक पद से हटाकर रेल ह्वील फैक्टरी, बेंगलुरु का महाप्रबंधक बनाया गया है। उनकी जगह वीरेंद्र कुमार, आइआरएसएमई अब आरडीएसओ के जीएम का दायित्व संभालेंगे।
उत्तर-मध्य रेलवे के जीएम के रूप में राजीव चौधरी, आइआरएसई की नियुक्ति की गई है। जबकि पीएस मिश्रा, आइआरटीएस को दक्षिण-पूर्व रेलवे का जीएम नियुक्त किया गया है। यही नहीं, चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स (सीएलडब्लू) के महाप्रबंधक पद पर भी नई नियुक्ति हुई है। पीके मिश्रा, आइआरएसई यह जिम्मेदारी संभालेंगे।
वहीं नेशनल एकेडमी आफ रेलवेज (एनएआइआर), वडोदरा के महानिदेशक पद पर प्रदीप कुमार आइआरएसई को नियुक्त किया गया है। रेलवे बोर्ड में मौजूद सुनील माथुर, आइआरटीएस को जीएम का वेतनमान देकर पदोन्नत किया गया है।
मध्यम स्तर पर उत्तर रेलवे में बड़े फेरबदल के तहत मुख्य जन संपर्क अधिकारी नितिन चौधरी की जगह दीपक कुमार को जिम्मेदारी सौंपी गई है। नितिन चौधरी को रेल कोच फैक्टरी (आरसीएफ ) कपूरथला भेजा गया है। इसी प्रकार जोनों में तैनात कई अधिकारियों को प्रोन्नति अथवा ट्रांसफर के जरिये रेलवे बोर्ड लाया गया है।
रेल मंत्रालय के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, यह फेरबदल और नियुक्तियां मंत्रालय के कामकाज को बेहतर बनाने अथवा प्रशासनिक जरूरतों के अनुसार किए गए हैं। रेलवे बोर्ड के अलावा रेलवे जोनों, उत्पादन इकाइयों और प्रतिष्ठानों में लंबे समय से उच्च स्तर पर अनेक पद खाली पड़े थे।
इस क्रम में पिछले दिनों सबसे प्रमुख डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन (डीएफसीसी) के एमडी के तौर पर अनुराग सचान की नियुक्ति हुई थी। यह पद डेढ़ वर्ष से खाली पड़ा था। रेलवे बोर्ड में मेंबर रोलिंग स्टॉक तथा महानिदेशक एस एंड टी के खाली पदों पर भी जल्द नियुक्तियां होंगी।

52Shares

Check Also

आवास पॉलिसी,थोड़ी भी नहीं बची शर्म,दूसरी यूनियन के कार्य का खुद लिया क्रेडिट

झांसी।उनको न तो शर्म बची है और न आप उनसे ऐसी उम्मीद कीजिये।दूसरे की मेहनत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *