रेलवे वाले सबसे बड़े भ्रष्टाचारी:CVC

नई दिल्ली. केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) की एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक बीते साल उसे भ्रष्टाचार से जुड़ी सबसे अधिक शिकायतें रेलवे और सार्वजनिक बैंकों के खिलाफ मिलीं। सालाना रिपोर्ट के अनुसार 2017 में आयोग को मिलने वाली शिकायतों में 2016 की तुलना में 52 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई। संसद में हाल ही में पेश रिपोर्ट के अनुसार आयोग को 2017 में कुल 23,609 शिकायतें मिलीं जो कि 2011 के बाद सबसे कम है। वर्ष 2016 में आयोग को 49,847 शिकायतें मिली थीं। इसमें कहा गया है, ज्यादातर शिकायतों के आरोप अस्पष्ट या ऐसे पाए गए जिनका सत्यापन नहीं किया जा सके। आयोग को राज्य सरकारों व अन्य संगठनों में काम कर रहे लोकसेवकों के खिलाफ भी अनेक शिकायतें मिलीं, जो कि आयोग के अधिकार क्षेत्र में नहीं आते या प्रशासनिक प्रकृति के हैं।
रिपोर्ट में कहा गया है कि आयोग को 2015 में भ्रष्टाचार की 29,838 शिकायतें मिलीं। इससे पहले 2012 में यह संख्या 37,039 जबकि 2013 में 31,432 और 2014 में 62,362 रही। 2011 में आयोग को भ्रष्टाचार की 16,929 शिकायतें मिली थीं। सीधे CVC को भेजी गई शिकायतों के अलावा 2017 में 57,000 से ज्यादा शिकायतें तमाम विभागों के मुख्य सतर्कता अधिकारियों को भेजी गईं। शिकायतों का विवरण देते हुए CVC ने कहा कि भ्रष्टाचार की सबसे ज्यादा 12,089 शिकायतें रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ मिलीं। इनमें से 9,575 का निपटारा कर दिया गया है जबकि 2,514 शिकायतें अभी लंबित हैं। इसके अलावा रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ कुल 1,037 ऐसी शिकायतें हैं जो 6 महीने से ज्यादा वक्त से लंबित हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली जल बोर्ड, नॉर्थ, ईस्ट और साउथ दिल्ली के निकायों व एनडीएमसी जैसे स्थानीय निकायों के खिलाफ भ्रष्टाचार की कुल 8,243 शिकायतें मिलीं।

0Shares

Check Also

कर्मचारियों के मुद्दे नहीं आर एन यादव को ईडीपी से हटाने के लिए पीएनएम का बहिष्कार किया था एनसीआरईस ने!

झांसी।यदि आप सोच रहे हैं कि रेल कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर एनसीआरईस अधिकारियों के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *