लोहानी ने दिए आदेश,जो भी नेता अधिकारियों के साथ मारपीट करे उसे तुरंत बर्खास्त करो

रेलवे बोर्ड अध्यक्ष अश्विनी लोहानी

लखनऊ, नईदिल्ली। नेताओं द्वारा आये दिन अधिकारियों के साथ अभद्रता, धक्का मुक्की व कई जगह मारपीट की घटनाएं होने पर रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कड़ा कदम उठाया है।ऐसे लोगों को 14/2 के तहत तुरंत नोकरी से बाहर करने का आदेश उन्होंने सभी महाप्रबन्धकों को दिए हैं। दरअसल बीते दिनों लखनऊ में एनआरएमयू के एक नेता द्वारा एक डॉक्टर के साथ मारपीट के बाद उन्होंने यह कदम उठाया।

श्री लोहानी ने सभी जोनल महाप्रबंधकों को संदेश दिया है कि इस तरह की घटनाओं में शामिल स्टाफ, भले ही वह किसी भी यूनियन में बड़े पद पर क्यों न हो, उसके खिलाफ तत्काल एक्शन लेते हुए नौकरी से बर्खास्त कर दिया जाए.
रेलवार्ता को सूत्रों ने बताया कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी का एक संदेश इन दिनों सभी रेल जोनों में अफसरों के मोबाइल पर वायरल हो रहा है. इस संदेश में श्री लोहानी ने लखनऊ में पिछले दिनों रेलवे हॉस्पिटल में पदस्थ डॉक्टर जगदीश चंद्रा के साथ एनआरएमयू के नेता मनिकान्त शुक्ला ने जमकर मारपीट की थी. हालांकि मारपीट के बाद उन्होंने तुरंत एक्शन लेते हुए इस नेता का ट्रांसफर फिरोजपुर मण्डल में पोस्ट सहित कर दिया गया।
इस घटना पर आल इंडिया रेलवे आफीसर्स एसोसिएशन ने आपत्ति जताते हुए चेयरमैन रेलवे बोर्ड को शिकायत की थी. शिकायत में कहा गया था कि पिछले कुछ समय से लगातार श्रमिक संगठनों द्वारा अफसरों से अभद्रता की घटनाएं पूरे देश में सामने आ रही हैं, कई मामलों में तो मजदूर नेताओं द्वारा चेम्बर में घुसकर अफसरों के साथ मारपीट भी की थी. इन घटनाओं से अफसर अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और उनका काम करना मुश्किल हो गया है. इस तरह के मामलों में कोई ठोस निर्णय लिया जाए.
चेयरमैन श्री लोहानी के हाल ही में देश भर के जोनल महाप्रबंधकों, जोनल व आल इंडिया रेलवे आफीसर्स एसोसिएशन को भेज संदेश में उन्होंने स्पष्ट किया है कि इस तरह की मैन हेंडलिंग (मारपीट) या अभद्रता यदि किसी भी अफसर के साथ की जाती है, इस तरह की घटनाओं में चाहे कितना भी बड़ा मजदूर नेता क्यों न लिप्त हो, उस पर तत्काल एक्शन लिया जाए और उसे नौकरी से रिमूवल अंडर 14/2 के तहत कर दिया जाए.

124Shares

Check Also

एनपीएस को लेकर सरकारी घोषणा से युवाओं में नाराजगी,सभी दल जिम्मेदार है इसे लागू करने में

एनपीएस को रद्द कराने के लिए संघर्ष कर रहे सूरवीर आज आये दिन उन नेताओं …

2 comments

  1. Rahul Kumar Gautam

    चाहे रेलवे का कोई भी बड़ा अधिकारी किसी भी गैंगमैन को काम के प्रति बिना डरा धमका कर कोई भी अत्याचार या मारपीट करता रहे फिर अश्वनी जी अध्यक्ष रेलवे बोर्ड हमें यह बताइए हम गैंगमैन किसके पास अपनी फरियाद या अपना दुखड़ा सुनाने जाएंगे हम गैंगमैनों के लिए भी कोई कानून बनाइए अगर कोई अफसर हम गैंगमैनों को बिना किसी वजह से परेशान करता है नौकरी से अपसेंट करता है सस्पेंड करता है यह नागा लगाने की धमकी देता है हम किस के पास जाकर अपनी बात रखेंगे आपने तो बड़ी आसानी से कह दिया कि अगर कोई भी गैंगमैन किसी भी बड़े अधिकारी से कोई अभद्र व्यवहार करता है तो तो उसे नौकरी से हटा दिया जाए मैं अश्वनी जी से यह पूछना चाहता हूं कि अगर दिन पर दिन हम गैंगमैनों पर बड़े अफसर p w i j e s s c i n अगर अत्याचार करते रहे तो क्या गेम चलाने या ट्रेन चलाने प्लेन की मरम्मत करने अगर गैंग में नहीं आएंगे तो क्या आप बड़े अफसर ट्रेन चलाएंगे बैटरी की मरम्मत करेंगे गिट्टी को देंगे सफाई करेंगे ऐसे फैसले पर हम सभी गैंगमैनों को आपत्ति है मैं यह नहीं कहता कि गलत है यह भी गलत है लेकिन बड़े अफसर भी गलत है आप बिना सोचे समझे ऐसे फैसला सुनाएं मेरी आपसे हाथ जोड़कर यही विनती है बड़े अधिकारी अपने वादे का गलत इस्तेमाल करते हैं वह अपनी पावर का मिस यूज करते हैं सो प्लीज ऐसी कोई भी खबर अगर कोई बड़ा अधिकारी आप तक पहुंचाता है कि हमारे साथ किसी गैंगमैन ने मारपीट की है अब दुर्व्यवहार किया है गाली गलौज दी है तो उसकी पूर्णता जांच की जाए उसके बाद ही किसी निर्णय पर विचार किया जाए ना की किसी अधिकारी के कहने पर किसी भी गैंगमैन को रिमूव किया जाए फ्रॉम सर्विस

  2. It is totaly illegal to remain retired employees in Working trade unions.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *